क्या है नया RCM बिजनेस प्लान | मार्केटिंग योजना 2019

RCM जिसे हम Right Concept Marketing भी कहते है, एक नेटवर्किंग मार्केटिंग बिज़नेस है. इसका RCM बिज़नेस प्लान (RCM Business Plan in hindi) इतना बेहतरीन है आप अपनाये बिना नहीं रह सकते। जिसे छाबरा ग्रुप द्वारा तैयार किया गया है।

RCM एक MLM business है, ये एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां आप अपने सपनो को सच का रूप दे सकते है। और ये सब आप बहुत कम समय में कर सकते है।

जरूर देखें: RCM हेल्थ गार्ड राइस ब्रान आयल के 8 फायदे

ये भारत की एक चर्चित कंपनी है आज इसकी पकड़ इतनी मजबूत है की इसके कुल 80 लाख डिस्ट्रीब्यूटर है और 1000 से ज्यादा PUC है। 750 से ज्यादा प्रोडक्ट्स मार्किट में काम कर रहे है।

बस आपको RCM बिज़नेस प्लान को अच्छे से समझना है जो की बहुत आसान है। इस नेटवर्क को ज्वाइन करना भी बहुत आसान है आपको सिर्फ १००० रूपए के प्रोडक्ट्स कंपनी से खरीदने है और आप हो गये ज्वाइन।

ज्वाइन करने के बाद आपको कंपनी की तरफ से एक नंबर दिया जाता है, जिसके तहत आपको नए मेंबर ज्वाइन करने है और उनको प्रोडक्ट्स बेचने होते है। जिससे आपको कमीसन मिलती है।

ये कोई मुश्किल काम नहीं है क्योंकि की इनके प्रोडक्ट्स बहुत ही लाजवाब है। जिनको लोग खरीदते ही खरीदते है।

जरूर देखें: भारत में नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य

आइये जाने RCM बिज़नेस प्लान : (Rcm business Plan)

हम इस प्लान में जानेंगे कि ये प्लान कैसे काम करता है और प्रोडक्ट्स पर कैसे और कितना कमीशन मिलता है। आइये जानते है।

B.V ( बिज़नेस वैल्यू ) :

सबसे पहले हम बात करे B.V ( बिज़नेस वैल्यू ) की तो इस बिजनेस में हमें प्रोडक्ट्स बेचने पर पॉइंट्स मिलते है और उन B.V के अनुसार ही आपको कमीशन मिलती है। जैसे आपका लेवल बढ़ता है वैसे वैसे आपकी कमीशन भी बढ़ती है।

जरूर देखें: एमएलएम बिजनेस क्या है?

मेन लेग (समूह) (Main Leg Group) :

मेन लेग ग्रुप वह ग्रुप है जिसमे आपको सबसे ज्यादा प्रॉफिट मिलता है। अगर आपके अंडर काफी ग्रुप्स काम कर रहे है तो जो ज्यादा प्रॉफिट देता है वही आपका मैन लेग ग्रुप होगा।

विक्रय प्रोत्साहन राशि (Sales Incentives) :

इस पार्ट में डायरेक्ट सेलर के ग्रुप की जो राशि जिसने सबसे ज्यादा प्रोडक्ट्स बेच कर कमाया है को डाउनलार्इन यानि जिस समूह की बिक्री कम हुई है की विक्रय राशि को घटाकर नेट विक्रय प्रोत्साहन राशि प्राप्त करली जाती है इसे डिफरेन्स के बेस पर गणना करना कहते हैं।

जरूर देखें: Latest RCM Business Plan in English

प्रपोजर (Proposer) :

जो मेंबर नए व्यक्तियों को ज्वाइन करा कर उससे ग्रुप में डायरेक्ट सेलर बनने के लिए तैयार करता है उसको हम प्रपोजर कहते है।

स्पॉन्सर (Sponsor) :

जो भी नए मेंबर को हम ज्वाइन कराते है उस अपलाइन को स्पॉन्सर कहा जाता है।

जरूर देखें: भारत की सर्वश्रेष्ठ नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां

rcm business plan hindi

जरूर देखें: RCM business distributor list

कुछ जरूरी बातें (Some important things) :

अगर हम बात करे परफोरमेन्स बोनस की तो ये उनको ही दिया जाता है जो Direct Sellers माह में स्वयं भी कम से कम 100 बी.वी. के उत्पादों की खरीद करते हैं या माह के खत्म होने से पहले 30 दिनों के अंदर पुरे कर लेते हैं।

बोनस की गणना को हम ग्रुप के कुल बोनस में से डाउनलार्इन का परफोरमेन्स बोनस घटाकर पता लगा लेते है।

जरूर देखें: क्या नेटवर्क मार्केटिंग अच्छा या बुरा है?
नोट :

  • रोयल्टी को उन्हीं सेलर्स को दिया जाता है जो एक माह में खुद भी कम से कम 1500 बी.वी. के प्रोडक्ट्स को खरीदते हैं ।
  • रोयल्टी का पता हम डिफरेन्स के बेस पर कुल रोयल्टी में से डाउनलार्इन की रोयल्टी घटाकर लगाते है।
    रोयल्टी का पता हम महीने के अंत में लगाते है।
  • यदि किसी सेलर की मेन लेग यानि ज्यादा प्रॉफिट कमाने वाला ग्रुप के अलावा अन्य कोई ग्रुप बी.वी. 3,50,000 या इससे ज्यादा प्राप्त कर लेता है तो उसे हम सैकण्ड लेग (ग्रुप) कहते है।
    और यदि बी.व् 1,15,000 या इससे ज्यादा होते है तो सैकण्ड लेग को भी उपरोक्त स्लेब के अनुसार ही रोयल्टी मिलती है।

Related Articles